Categories
Fictional stories Life-related blogs Love, romance & relationship Uncategorized weddings Women centric

ससुराल कि देहलीज में पहले कदम

हर लड़की की तरह नेहा के भी अपनी शादी और ससुराल को लेके बचपन से ही काफी सपने थे और आज पहली बार वो अपने ससुराल में कदम रख रही थी।

नेहा के पति ऋषि का भरा पूरा परिवार है 5 भाई बहन और बहुत से रिश्तेदार सब एक साथ रहते है वहीं नेहा मां पिता के प्यार में पली बढ़ी इकलौती संतान होने के नाते उसने कभी अपने घर पे इतने लोग देखे नहीं थे। उसने सोचा कि शायद उसे भाई बहन का भी प्यार मिल जाएगा।

ऋषि से नेहा ने अपने माता – पिता के इक्षा के विरुद्ध जा के शादी की थी उसकी मां ने बार बार समझाया था कि जिस घर को वो चुन रही है वहां जिम्मेदारी और रूढ़िवादी परंपराओं के अलावा कुछ नहीं है पर नेहा को समझ नई आया।

अपने ससुराल में घुसते ही सबने उसे बताया कि यहां घर के पुरुषों के सामने घूंघट ओढ़ कर चलना होता है और उनसे दूरी भी बना के रखना होता है। उसने कभी अपने घर में बचपन में अपने दादी को ऐसे घूंघट ओढ़े देखा था पर समय के साथ ये परंपरा चली गई थी।

ससुराल में आके उसे पता चला कि उसका कोई अपना कमरा तक नहीं है। पति से दूर हर रात दूसरी औरतों के साथ सो सो के परेशान होने लगी। उसे समझ में आने लगा कि उसकी मां कितनी दूरदर्शी और सही थी। बहू को ससुराल में घुसते ही मिलने लगा जिम्मेदारियों का ज्ञान पर एक नई बहू के सुख और सुभिधा का किसी ने नहीं सोचा।

कभी नेहा के घूंघट नहीं ओढ़ने पे पीठ पीछे बुराई होने लगी तो कभी कोई हर बात पे उसके पति से जा के शिकायत लगाने लगा। जिनके खुद के घर नहीं बसे और जो अपने ससुराल में पैर पटक के आयी वो सभी औरतें भी नेहा को अपनी अच्छाई के प्रमाण पत्र, ज्ञान और ताने देते नजर आए।

सबने बताया कि उसका ये ससुराल बहुत अच्छा है और ज्यादा पाबंदी भी नहीं पर नेहा तो शायद दूसरे ग्रह से है जहां के लोग इज्जत देते है, बहू कि सुख सूभिधा का ध्यान रखते है, जहां बहू को लक्ष्मी माना जाता है।

नेहा को यहां कई चेहरे दिखे, बिन पैदी के लोटे दिखे जो की एक जगह से सुनके दूसरी जगह लुढ़कते रहते, पंचायत करने वाले,अपनी सुभीधा देखने वाले, दूसरो पे आरोप लगाने वाले और सबसे बढ़ी बात पूरा घर एक दूसरे पे कीचड़ उछालने में लगा रहता और फिर उसी कीचड़ में एक साथ गले मिला के रहते थे।

इन सब के बीच बस एक चीज अच्छी थी नेहा के लिए वो है ऋषि।

उसे एक समझदार और अच्छा पति मिला था पर क्या नेहा इतनी सारी घर कि जिम्मेदारी उठा पाएगी?

क्या नेहा को चुपचाप सुनना चाहिए?

क्या ये कोलाहल वाला ससुराल नेहा के दांपत्य जीवन को प्रभावित करेगा?

अपने विचार व्यक्त करें।